Now Reading
जीवन में कठिन परिश्रम के अलावा कोई विकल्प नहीं

जीवन में कठिन परिश्रम के अलावा कोई विकल्प नहीं

जीवन में कठिन परिश्रम के अलावा कोई विकल्प नहीं

भाग्य और अवसर आपको सफलता की ओर ले जाने वाली गाड़ी है और कठिन परिश्रम इस गाड़ी के पहिये। सोचिये, बिना पहिये के भला गाड़ी आगे कैसे बढ़ेगी? आप यदि ऐसी कोशिश करते भी हैं, तो आपका हाल भी इन पंडित महाशय जैसा होगा।

कहानी

बहुत समय पहले एक पंडित जी बड़े ही आलसी और गरीब थे। वह कोई काम नहीं करना चाहते थे, बस बैठे-बैठे अमीर बनने के सपने देखा करते थे। भिक्षा मांगकर उनका पेट भर जाता था। एक दिन भिक्षा में उन्हें मिट्टी के बर्तन में दूध मिला, जिसे देखकर पंडित जी बहुत खुश हुये। घर आकर उन्होंने दूध गरम किया, उसमें से थोड़ा दूध पिया और बाकी में दही डालकर जमने के लिए छोड़ दिया। उसके बाद पंडित जी सोकर सपनों की दुनिया में खो गये।

सपने में क्या देखा?

सपने में वह देख रहे थे कि जल्द ही किसी तरह वह अमीर बन जाते हैं और उनकी सारी दुख-तकलीफ दूर हो जाती है। फिर सपने में ही उनका ध्यान दही की ओर जाता है। वह देखते हैं कि वह दही से मक्खन निकाल रहे हैं, फिर मक्खन गर्म करके घी बनाते हैं और घी को बाज़ार में बेचने जाते हैं, जिससे उनकी कुछ कमाई हो जाती है। उस पैसे से वह मुर्गी खरीदते हैं, मुर्गी अंडा देती है, जिसमें से चूज़े निकलते हैं। वह चूज़ें बड़े होते हैं और वह भी अंडे देते हैं जिससे धीरे-धीरे उनके पास ढेर सारी मुर्गियां हो जाती हैं और वह अपना पॉल्ट्री फार्म आराम से चला रहे हैं।

जीवन में कठिन परिश्रम के अलावा कोई विकल्प नहीं
कड़ी मेहनत करें  | इमेज : फाइल इमेज

पंडित जी का अंतहीन सपना चलता ही जा रहा है, अब वह देखते हैं कि वह सारी मुर्गियों को बेचकर कुछ गाय खरीद लेते हैं और डेयरी खोलते हैं। पूरे शहर के लोग उनकी डेरी से दूध खरीदते हैं। जल्दी ही उनके पास ढ़ेर सारे पैसे आ जाते हैं और वह गहने खरीदते हैं। अब राजा उनके पास गहने खरीदने आते हैं। अब वह बहुत अमीर हो चुके हैं, तो एक सुंदर अमीर लड़की से शादी करते हैं, उन्हें एक पुत्र होता है। पुत्र जब शैतानी करता है, तो वह उसे छड़ी से सबक सिखाते हैं। पंडित ने नींद में ही छड़ी उठाई और उन्हें लगा कि वह अपने बेटे को मार रहा है, लेकिन छड़ी उस मिट्टी के बर्तन पर लगी जिसमें दही जमने के लिए रखा हुआ था और वह फूट गया। इस तरह पंडित जी के सपनों पर सपने में ही पानी फिर गया।

सफलता का शॉर्टकट नहीं होता

इस कहानी से यह सीख मिलती है कि जीवन में सफलता का बस एक ही रास्ता है और वह है कड़ी मेहनत। इसका दूसरा कोई विकल्प नहीं है। तो आप भी यदि कामयाब होना जाते हैं, तो सिर्फ उसके बारे में सोचने से काम नहीं चलेगा, बल्कि अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिये आपको कठिन परिश्रम करना होगा।

और भी पढ़े: तिरंगा बचायेगा पर्यावरण

अब आप हमारे साथ फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पर भी जुड़िये।

What's Your Reaction?
आपकी प्रतिक्रिया?
Inspired
0
Loved it
0
Happy
0
Not Sure
0
प्रेरणात्मक
0
बहुत अच्छा
0
खुश
0
पता नहीं
0
View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

©2019 ThinkRight.me. All Rights Reserved.