Shilpi Sharma

173 Articles Published | Follow:
खालीपन को कहें बाय-बाय

खालीपन को कहें बाय-बाय

खालीपन महसूस करना जितनी एक आम समस्या है, उतनी बड़ी परेशानी भी है। अपने खालीपन को समझें और उसे दूर भगाने के लिये इस लेख में बताये गये कदम उठायें। ...Read Moreऔर पढ़िये
आज मे जीने से ही बनता है बेहतर कल

आज मे जीने से ही बनता है बेहतर कल

कल के बारे में सोचकर अपने आज को न भूलें ,अपने आज पर फोकस करिये। आपका हर ‘आज’ अच्छा होगा, तो कल अपने आप बेहतर होता जायेगा। ...Read Moreऔर पढ़िये
नेकी की राह से मिलेगा सुकून

नेकी की राह से मिलेगा सुकून

अगर आप सोचते हैं कि नेकी से केवल दूसरों का भला होता है, तो इस लेख को ज़रूर पढ़िये- ...Read Moreऔर पढ़िये
तिरंगा बचायेगा पर्यावरण

तिरंगा बचायेगा पर्यावरण

हमारा तिरंगा, देश प्रेम, एकता और ताकत का प्रतीक होने के अलावा अब यह पर्यावरण का रक्षक भी कहलायेगा। जानिये कैसे, इस लेख में - ...Read Moreऔर पढ़िये
जहां चाह, वहां राह

जहां चाह, वहां राह

ज़ोनल कमिश्नर हरि चंदना दसारी की एक ऐसी पहल, जिसमें वेस्ट यानी कचरे के जरिये महिलाएं सशक्त हो रही हैं। कैसे इस पहल से महिलाओं को फायदा मिल रहा है, जानिये इस लेख में- ...Read Moreऔर पढ़िये
तुम जियो हज़ारों साल

तुम जियो हज़ारों साल

आजकल लोग अपने स्वार्थ और लालच के लिए पेड़ों की अंधाधुंध कटाई कर, पर्यावरण के साथ खिलवाड़ करते हैं, तो वहीं मदुरई के एक शहर में दो पेड़ों का 100वां जन्मदिन मनाया गया। ...Read Moreऔर पढ़िये
कला ही नहीं संस्कृति की भी झलक है ‘पत्ताचित्र’

कला ही नहीं संस्कृति की भी झलक है ‘पत्ताचित्र’

पत्ताचित्र शैली ओडिशा की सबसे प्राचीन और सर्वा‍धिक लोकप्रिय कला का एक रूप है। पत्ताचित्र क्यों लोकप्रिय है और इसकी क्या खासयित है, जानिये इस लेख में - ...Read Moreऔर पढ़िये
अब दूध बन जायेगा बच्चों का फेवरेट ड्रिंक

अब दूध बन जायेगा बच्चों का फेवरेट ड्रिंक

क्या आपका बच्चा दूध पीने में नखरें करता है? अगर आपका जवाब हां है, तो जानिये आप बच्चों को किन तरीकों से आसानी से दूध पिला सकते हैं- ...Read Moreऔर पढ़िये
बच्चे भी कर रहे है मेडिटेशन की प्रैक्टिस

बच्चे भी कर रहे है मेडिटेशन की प्रैक्टिस

पढ़ाई को लेकर छोटे बच्चों के ऊपर बहुत प्रेशर होता है। इसलिये घर-स्कूल में मेडिटेशन सेशन्स की शुरुआत की गई है। इस लेख से जानते है कैसे उनके स्ट्रैस को कम कर सकते हैं- ...Read Moreऔर पढ़िये

पढ़ने की न कोई सीमा और न उम्र होती है

शिक्षा पाने की कोई सीमा नहीं होती बल्कि आपके अंदर जिज्ञासा होनी चाहिये। यही जिज्ञासा एक गार्ड ने जेएनयू का एंट्रेंस एग्ज़ाम क्लीयर कर दिखाया, जानने के लिये पढ़ें ये लेख - ...Read Moreऔर पढ़िये