शिक्षा

पढ़ने की न कोई सीमा और न उम्र होती है

शिक्षा पाने की कोई सीमा नहीं होती बल्कि आपके अंदर जिज्ञासा होनी चाहिये। यही जिज्ञासा एक गार्ड ने जेएनयू का एंट्रेंस एग्ज़ाम क्लीयर कर दिखाया, जानने के लिये पढ़ें ये लेख - ...Read Moreऔर पढ़िये
सरकारी स्कूल को देख, हर कोई हो रहा हैरान

सरकारी स्कूल को देख सब हैरान

जब भी देश के सरकारी स्कूलों की बात होती है, तो स्कूलों के बदतर हालत के बारे में हर कोई ...Read Moreऔर पढ़िये
अनमोल है बुज़ुर्गों का प्यार

अनमोल है बुज़ुर्गों का प्यार

अनुष्का भले ही पांच साल की है, लेकिन खाने के लिये अपनी मम्मी को रोज़ाना परेशान करती है। उसकी एक ...Read Moreऔर पढ़िये
ज़रूरतमंदों की मदद है सबसे बड़ी मानव सेवा

ज़रूरतमंदों की मदद है सबसे बड़ी मानव सेवा

किसी ज़रूरतमंद की मदद ही सबसे बड़ी सेवा है, इसलिए तो बेंगलुरु के सेंट जॉन्स मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस की ...Read Moreऔर पढ़िये
संवेदना से संवारा बच्चों का बचपन

संवेदना से संवारा बच्चों का बचपन

क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर प्रकृति ने इंसान के अंदर संवेदना का अहसास क्यों बनाया? दरअसल, संवेदना एक ...Read Moreऔर पढ़िये
कला से लोगों के जीवन में रंग भरने की कोशिश

कला से लोगों के जीवन में रंग भरने की कोशिश

ज़्यादातर लोग अपनी नॉलेज का इस्तेमाल खुद की बेहतरी के लिये करते है, लेकिन कुछ लोग समाज की भलाई का ...Read Moreऔर पढ़िये
आईएएस दंपति बन रहे है प्रेरणा

आईएएस दंपति बन रहे है प्रेरणा

पेरेंट्स हमेशा चाहते है कि उनके बच्चों का भविष्य बेहतर हो, इसलिए वे अपने बच्चे को नामी व प्राईवेट स्कूल ...Read Moreऔर पढ़िये
भारत के पहले प्रधानमंत्री चाचा नेहरू की दिलचस्प बातें

भारत के पहले प्रधानमंत्री चाचा नेहरू की दिलचस्प बातें

आज़ाद भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू को चाचा नेहरू के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि ...Read Moreऔर पढ़िये
हम हैं केयरिंग फ्रेंड्स

हम हैं केयरिंग फ्रेंड्स

ज्यादातर लोगों का सपना होता है कि उन्हें एक ऐसी नौकरी मिले, जहां पांच दिन काम होता हो, अच्छी तनख्वाह ...Read Moreऔर पढ़िये

एसडीएम बच्चों को सिविल सेवा की मुफ्त देते है कोचिंग

समाज को बेहतर बनाने की कोशिश करेंगे, तो देश का विकास खुद ब खुद होने लगता हैं। कुछ ऐसी ही सोच नज़ीमाबाद के एसडीएम डॉक्टर पंकज कुमार वर्मा रखते हैं। ...Read Moreऔर पढ़िये